तुलसी - एक आयुर्वेदिक औषधि

तुलसी एक आयुर्वेदिक औषधि है, इसका उपयोग विभिन्न प्रकार की आयुर्वेदिक दवाईयों को बनाने में किया जाता है

तुलसी के औषधीय गुण और फायदे

तुलसी के विभिन्न औषधीय गुण और फायदे हैं |

तनाव के समय तुलसी के फायदे

आज के समय में तनाव एक आम समस्या बन गयी है | इससे छुटकारा पाने के लिए लोग कई तरह की कोशिश करते हैं | प्राचीन समय से ही तुलसी आयुर्वेद का महत्वपूर्ण हिस्सा है | एन सी बी आई (नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी इनफार्मेशन) के द्वारा एक शोध किया गया है | इसमें एंटी-स्ट्रेस गुण पाये जाते हैं | अगर हम रोजाना तुलसी का उपयोग करते हैं तो यह शरीर की कोशिकाओं को डेटोक्सिफाय (विषमुक्त) करता है| इससे हमारा शरीर शारीरिक और मानसिक तौर पर स्वस्थ होता है और मानसिक तनाव भी कम होता है |

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में तुलसी कारगर

तुलसी के पत्ते का सेवन करने से मनुष्यों में रोगों से लड़ने यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है | तुलसी में इम्मुनोमोडुलेटरी गुण पाये जाते हैं | जो हमारे रोग प्रतिरोधक तंत्र की कार्यप्रणाली को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है | इस गुण के कारण अस्थमा जैसी बीमारी में भी तुलसी के पत्ते का सेवन करने से काफी राहत मिलती है |

वजन कम करने में सहायक तुलसी

आजकल हम मनुष्यों में वजन कम करने की कोशिश ज्यादातर दिखाई देती है कोई डॉक्टर से सलाह लेता है, कोई जिम जाता है तो कोई डाइटिंग करता है | अगर हम व्यायाम के साथ साथ सही आहार विहार और तुलसी के पत्ते का सेवन करें तो इससे अधिक फायदा मिलेगा | इंडियन जर्नल ऑफ क्लीनिकल बायोकेमिस्ट्री के द्वारा जांच के आधार पर कहा गया है कि शरीर के वजन, बी एम आई और इन्सुलिन को नियंत्रण करने में हमारी सहायता करते हैं |

मुंह को स्वस्थ रखने में सहायक तुलसी

तुलसी का रस पीने से मुंह भी साफ रहता है | यह अपने एंटी बैक्टीरियल गुण के कारण मुंह से आने वाली बदबू को दूर करता है| यह पायरिया और मसूढ़ों से सम्बंधित विभिन्न बीमारियों को ठीक करने में हमारी मदद करता है | यह हमारे मुंह को बैक्टीरियल संक्रमण से बचता है | दांत दर्द में भी तुलसी का उपयोग काफी फायदेमंद होता है |

टीबी बीमारी में भी कारगर तुलसी

तुलसी का सेवन एकदम आसान है | दमा के मरीज अगर प्रतिदिन सुबह शाम दो पत्ते चबा कर खाते हैं तो उन्हें काफी फायदा महसूस होता है | यह टीबी की बीमारी में काफी फायदेमंद है | औषधीय गुण से भरपूर तुलसी का सेवन करने से विभिन्न विषाणु नष्ट हो जाते हैं और उनको बढ़ने से भी रोकता है | अगर हम तुलसी, अदरख और शहद को मिलाकर काढ़ा बना कर सेवन करें तो दमा, कफ, गले की खराश, सर्दी इत्यादि में काफी राहत मिलती है |

कुष्ठ (कोढ़) रोग में भी लाभकारी है तुलसी

तुलसी की जड़ को पीसकर सोंठ में मिलकर जल के साथ रोज सुबह शाम सेवन करने से कुष्ठ रोग में भी काफी फायदा मिलता है | सोंठ उपलब्ध नहीं होने पर सिर्फ तुलसी के पत्ते का रस निकालकर पीने से भी फायदा होता है | आयुर्वेद के अनुसार अगर हम तुलसी के बगीचे में या उसके आस पास भी रहते हैं तो भी कुष्ठ रोगी को फायदा मिलता है या कुष्ठ रोग से बचाव होता है |

सिरदर्द में भी उपयोगी है तुलसी

सिरदर्द - आजकल एक आम परेशानी है | लोग अक्सर सोचते हैं की एक कप चाय पी लेंगे तो हमारा सिरदर्द ठीक हो जायेगा लेकिन ऐसा होता नहीं है | अगर हम तुलसी के साथ चाय बनायें तो इसका असर अत्यधिक बढ़ जायेगा और सिरदर्द से छुटकारा मिल जायेगा | एन सी वी आई द्वारा किये गए शोध में पाया गया है कि तुलसी की चाय पीने से सिरदर्द में काफी फायदा मिलता है |

हृदय रोग में भी गुणकारी है तुलसी

तुलसी का पत्ता हृदय रोग में बहुत लाभदायक होता है | तुलसी में कार्डिओ-प्रोटेक्टिव गुण पाये जाते हैं | इस गुण के कारण तुलसी दिल को स्वस्थ रख कर हृदय रोग को दूर करता है | तुलसी के रास का नियमित सेवन से हृदय रोग के खतरे से बच सकते हैं |

कैंसर के इलाज में भी असरकारक है तुलसी

तुलसी एक आयुर्वेदिक दवा है | तुलसी के रस का नियमित सेवन करने से कैंसर का रोग कम कर सकता है | वैज्ञानिकों के अनुसार, तुलसी के रस में रेडिओप्रोटेक्टिव गुण होते हैं, जो शरीर में होने वाले ट्यूमर शेल्स को खत्म करता है | इसके अलावा तुलसी में थुजेनिल भी पाया जाता है, जिसमे एंटीकैंसर के गुण पाये जाते हैं| इसके साथ तुलसी में रोसमारिनिक एसिड, एपीगेनिन, ल्यूटोलीन जैसे महत्वपूर्ण फाइटोकेमिकल्स भी होते हैं | ये विभिन्न प्रकार के कैंसर से लड़ने में हमारी मदद करता है |

डाइबिटीज में भी फायदेमंद है तुलसी

तुलसी का उपयोग डायबिटीज में भी किया जाता है इसमें मौजूद एंटीडाईबेटिक गुणों के कारण रोज सुबह तुलसी का पानी पीने से मधुमेह को नियंत्रण में रखा जा सकता है | इसके अलावा भी तुलसी में हाइपोग्लाइसेमिक गुण भी पाये जाते हैं | इसी के कारण शरीर में ब्लड शुगर को नियंत्रण करने में हमारी मदद करता है |

विभिन्न बीमारियों में तुलसी का उपयोग

गले की खराश दूर करने के लिए कब्ज दूर करने के लिए
लीवर ठीक करने के लिए
सूजन को कम करने के लिए
रक्त वाहिकाओं के लिए
त्वचा सम्बन्धी समस्या के लिए
बाल झरने की समस्या के लिए
आँख के लिए तुलसी रस का उपयोग
मलेरिया के उपचार के लिए
बुखार ठीक करने के लिए
किडनी की बीमारी में
अनियमित पीरियड्स ठीक करने के लिए
खुजली ठीक करने के लिए
गठिया की बीमारी में
उल्सर के उपचार में

लेखिका का परिचय

priya bharti

मैं प्रिया भारती, गाँव - बदलपुरा, बेगूसराय से हूँ |

यदि आप किसी विषय में रुचि रखते हैं और उस विषय के बारे में हमें अपने विचारों को व्यक्त करना चाहते हैं और अपने विचारों को हमारे इस नारद.भारत वेबसाइट में पब्लिश कराना चाहते हैं तो आप अपने द्वारा लिखे गए सूचनाबद्ध लेख हमें भेज सकते हैं। हम आपके नाम और आप के चित्र के साथ उस लेख को अपने नारद.भारत में अवश्य पब्लिश करेंगे। भविष्य में यदि आप किसी भी विषय से जुड़ी जानकारी को लेकर हमारे नारद.भारत से जुड़ना चाहते हैं तो आप हमें सीधे ही कांटेक्ट कर सकते हैं।

  • naarad, naarad.bharat
    जीवित्पुत्रिका व्रत

    जीवित्पुत्रिका या जिउतिया व्रत - यह व्रत महिलाएं वंश वृद्धि और संतान की लम्बी आयु के लिए रखती हैं| यह आश्विन महीने के कृष्ण पक्ष की सप्तमी से नवमी तिथि तक मनाया जाता है| यह खास कर बिहार

    और पढ़ें »

  • naarad, naarad.bharat
    विश्वकर्मा पूजा

    विश्वकर्मा - विश्व के निर्माण या सृजनकर्ता | विश्वकर्मा पूजा का त्यौहार भगवान श्री विश्वकर्मा जी के जन्म दिवस के रूप में मनाते हैं विश्वकर्मा जी को विश्व का सबसे पहला इंजीनियर और वास्तुकार

    और पढ़ें »

  •  naarad, narad, narada
    नवदुर्गा के नौ रूप

    नवदुर्गा - माँ दुर्गा के नौ रूपों को नवदुर्गा के नाम से जाना जाता है| एक ही माता दुर्गा के नौ रूप हैं जिसमे उनके रंग रूप के साथ साथ अस्त्र शस्त्र और वाहन अलग अलग हैं|

    और पढ़ें »

  • नारद - एक परिचय
    तुलसी विवाह और उद्यापन

    तुलसी की उत्पत्ति देव और दानवों द्वारा किये गए समुद्र मंथन के समय जो अमृत धरती पर छलका उसी से तुलसी की उत्पत्ति हुई| ब्रह्मदेव ने उसे भगवान विष्णु को सौंपा| तुलसी शाकीय तथा

    और पढ़ें »